Monday, February 21, 2011

सुरेश चंद्र गुप्ता: जनाब अली सोहराब, यह बताइए कि हिन्दुओं को काफ़िर कैसे कहा जा सकता है?

ये प्रश्न मेरे प्यारे मित्र "हसन जावेद जी" के फसबूक वाल पर एक बहश के दरम्यान "
" ने मुझ से दो प्रश्न पूछा था, उसका जवाब मैंने दिया तो मेरे मित्रों का मेसेज आना शुरू हो गया के मैं इसे ब्लॉग में पोस्ट करूँ, तो आपकी सेवा मे प्रस्तुत है:


प्रश्न १. Suresh Chandra Gupta : ताने तो हिन्दुओं को सुनने पड़ते हैं. कभी सोचा है कैसा लगता होगा जब हिन्दुओं को काफ़िर कहा जाता है?

उत्तर: सुरेश चन्द्र गुप्ता जी, आपके सवाल बहुत ही उत्तम और आज के ज़माने के जरुरत के हिसाब से हैं, पर सायेद आपको काफ़िर का अर्थ ही नहीं पता है, इसलिए आपको लगता है काफ़िर शब्द ताना-बना वाला शब्द है,
शब्द ‘‘काफ़िर’’ वास्तव में अरबी शब्द ‘‘कुफ्ऱ’’ से बना है। इसका अर्थ है ‘‘छिपाना, नकारना या रद्द करना’’। इस्लामी शब्दावली में ‘‘काफ़िर’’ से आश्य ऐसे व्यक्ति से है जो इस्लाम की सत्यता को छिपाए (अर्थात लोगों को न बताए) या फिर इस्लाम की सच्चाई से इंकार करे। ऐसा कोई व्यक्ति जो इस्लाम को नकारता हो उसे उर्दू में ग़ैर मुस्लिम और अंग्रेज़ी में Non-Muslim कहते हैं।

यदि कोई ग़ैर-मुस्लिम स्वयं को ग़ैर मुस्लिम या काफ़िर कहलाना पसन्द नहीं करता जो वास्तव में एक ही बात है तो उसके अपमान के आभास का कारण इस्लाम के विषय में ग़लतफ़हमी या अज्ञानता है। उसे इस्लामी शब्दावली को समझने के लिए सही साधनों तक पहुँचना चाहिए। उसके पश्चात न केवल अपमान का आभास समाप्त हो जाएगा बल्कि वह इस्लाम के दृष्टिकोण को भी सही तौर पर समझ जाएगा।


प्रश्न २. Suresh Chandra Gupta :जनाब अली सोहराब, यह बताइए कि हिन्दुओं को काफ़िर कैसे कहा जा सकता है?
उत्तर: सबसे पहले धन्यबाद देना चाहुंगा के आपने सवाल किया

१. मैंने उपरोक्त आप को काफ़िर शब्द का अर्थ बताया था, ना की 'हिंदू' शब्द और मैने कही नही लिखा के 'हिंदू' को काफ़िर कहते हैं या हिन्दू काफ़िर है,

२. इस्लाम के किसी भी धार्मिक ग्रंथ(कुर-आन/हदिस) मे हिन्दु को काफ़िर नही कहा गया है,
३. किसी भी धर्म के अनुसार दो प्रकार के व्यक्ती होते हैं एक धर्म को मानने वाला और नही मानने वाला,
ठिक इसी प्रकार इस्लाम धर्म के अनुसार भी दो प्रकार के इंसान हैं एक इस्लाम धर्म को माननेवाला(मुस्लमान) और दुसरा इस्लाम धर्म को नही माननेवाला(हिन्दी मे गैर-मुस्लमान अरबी मे काफ़िर) है,
४. आप हमे बताने की कृपा करें के आप ने काफ़िर शब्द से क्या समझते हैं?
५. आप हमे ये भी बताने की कृपा करें के आप की हिसाब से हिन्दू किसे कहतें हैं और 'हिंदू' शब्द की परिभाषा क्या है

//'हिंदू' शब्द की परिभाषा: हमे तो हिंदू शब्द की परिभाषा यही मालुम है की: हिंदू शब्द न ही द्रविडियन न ही संस्कृत भाषा का शब्द है. इस तरह से यह हिन्दी भाषा का शब्द तो बिल्कुल भी नही हुआ. मैं आप को बता दूँ यह शब्द हमारे भारतवर्ष में 17वीं शताब्दी तक इस्तेमाल में नही था. अगर हम वास्तविक रूप से हिंदू शब्द की परिभाषा करें तो भारतीय (उपमहाद्वीप) में रहने वाले सभी हिंदू है चाहे वो किसी धर्म के हों. हिंदू शब्द धर्म निरपेक्ष शब्द है यह किसी धर्म से सम्बंधित नही है बल्कि यह एक भौगोलिक शब्द है. 'हिंदू' शब्द कई हज़ार साल पहले पर्सियन वालों ने इस्तेमाल किया था. उनके उच्चारण में '' अक्षर का उच्चारण '' होता था//

६. जहां तक 'हिंदू' धर्म की बात है तो माफ़ किजिएगा 'हिंदू' कोई धर्म नही है, 'हिंदू' शब्द किसी भी सनातन धर्म के धार्मिक ग्रन्थ(वेद, उपनिषद.........) मे नही आया है, हो सकता है आपका धर्म "सनातन" हो और मेरा "ईस्लाम" पर हम दोनो 'हिंदू' हैं,

1 comment:

  1. यह बात सही है कि हिन्दू नाम का कोई धर्म नहीं है. लेकिन कुछ कारणों से यह शब्द एक धर्म के लिए प्रयोग किया जाने लगा और किया जा रहा है. ऐसा कई शब्दों के साथ हुआ है. जैसे किसी भी भाषा में ऐसा कोई शब्द नहीं है जिसे धर्म की जगह प्रयोग किया जा सके. रिलिजन, मजहब, यह शब्द धर्म की जगह प्रयोग किये जाते हैं पर धर्म के समानार्थी नहीं है. भारत में मुस्लिम, सिख, बौद्ध, जैन, ईसाई, पारसी रहते हैं, एक और बड़ा ग्रुप जिसे हिन्दू कहा जाता है उसके धर्म को हिन्दू धर्म कहा जाता है. यह गलत है या सही, यह बहस का मुद्दा नहीं है. पर यह एक सच्चाई है कि मुसलमान (संख्या कम या ज्यादा हो सकती है) हिन्दुओं को काफ़िर कहते हैं, 'काफिरों को मारना खुदा का काम है' ऐसे नारे मैंने बहुत सुने हैं. आपको शायद याद हो कि एक हिन्दू संगठन ने मुस्लिम धार्मिक नेताओं से यह अपील की थी कि हिन्दुओं को काफ़िर न कहा जाय. उस पर कोई सकारात्मक प्रतिक्रिया नहीं आई.

    मेरा धर्म सनातन धर्म है जो हर धर्म का आदर करता है, जो हर धर्म की पूजा पद्दति और व्यवहार का आदर करता है. हिन्दू शब्द का जो अर्थ आपने बताया है मैं उस से पूरी तरह सहमत हूँ. पर मुश्किल यही है कि यह हिन्दू शब्द सनातन धर्म के अनुयाईयों के लिए प्रयोग हो रहा है. आपने एक बहुत अच्छी बात लिखी है - हो सकता है आपका धर्म "सनातन" हो और मेरा "इस्लाम" पर हम दोनों 'हिन्दू' हैं. काश सब ऐसा ही सोचते और कहते.

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...