Monday, February 28, 2011

हम मूरख तुम ज्ञानी ....

[cartoon-notice-board-thumb6453353[15].jpg]
दुनिया का चलन है....हम जो है बस वही सही है, हम चतुर, सत्यवादी , निर्मल हृदय, ईमानदार, कार्यकुशल , परोपकारी, ज्ञानी, ....जो हैं वो बस हम है ...." तुम मूरख हम ज्ञानी " 

कभी न कभी हम सब के मन में यह खयाल जरुर आता है ..
हालाँकि ऐसे लोंग भी होते हैं जो सिर्फ अपने को मूर्ख मानते हैं, उन्हें हर व्यक्ति अपने से ज्यादाबुद्धिमान लगता है, मगर इनकी गिनती सिर्फ अन्गुलियों पर की जा सकती है ..जो दुर्लभप्राणियों की इस जमात में खुद को शामिल कर इठलाते हैं ... ." हम मूरख तुम ज्ञानी " 

खांचों में जीते हैं हम लोंग, हमारे मापदंड, मर्यादायें इन खांचों के साथ बदलती रहती है ....अपनी भूमिका बदलते ही सोच भी अपनी सुविधानुसार परिवर्तित हो जाती है..क्यों नहीं हम येमान सकते कि दुनिया में हर रंग जरुरी है, हर शख्स ,हर वस्तु की अपनी खूबियाँ हैं, अपनीखामियां भी हैं....स्वाद सिर्फ मीठा या तीखा ही नहीं देता ...नमकीन, खट्टा और कसैलामिलकर ही भोजन का स्वाद बढ़ाते हैं ..
देखिये तो जो हम है और जो हम नहीं हैं उसके लिए हम क्या-क्या सोचते हैं ....


मैं विवाहित हूँ .....इसलिए सभी अविवाहित उत्श्रंखलचरित्रहीन है ...!
मैं अविवाहित हूँ ...विवाहितों का भी कोई जीवन है जैसे काराग्रह के बंदी हों.
मैंने प्रेम विवाह किया है ....अरेंज मैरिज वही करते हैं जिन्हें कोई लड़का /लड़की घास नहीं डालतीये तो मां-बाप ने शादी करवा दी वरना कुंवारे ही रह जाते.
मेरा अरेंज मैरेज है .... प्रेम विवाह छिछोरापन है.
मैं धार्मिक हूँ .....इसलिए सभी नास्तिक पापी हैंघृणा करने योग्य हैं.
मैं नास्तिक हूँ ....धार्मिक मान्यताओं का पालन करने वाले पाखंडी हैं.
मैं .... धर्म को मानती हूँ ....इसलिए दूसरे धर्मों में कोई सार नहीं हैउनमे कुछ भी अच्छानहीं है.
मैं .... प्रान्त से हूँ ....सभ्य लोंग बस यहीं बसते हैं .
मैं .... भाषी हूँ ...बस मेरी बोली सबसे मीठी, बाकी सक बकवास.
मैं नेता हूँ ....पूरी जनता मेरी प्रजा है .
मैं अमीर हूँ ....गरीबों को जीने का कोई अधिकार नहीं है.
मैं गरीब हूँ ....अमीर सिर्फ नफरत किये जाने योग्य हैं.
मैं सत्यवादी हूँ ....दुनिया कितनी झूठी है .
मैं शिक्षित हूँ ......इसलिए सभी अशिक्षित जंगली हैंगंवार हैं ..
मैं साहित्यकार हूँ ... .दूसरों को लिखने का शउर ही नहीं हैक्या -क्या लिख देते हैं.
मैं ब्लॉगर हूँ ...साहित्यकारलेखक क्या चीज हैपैसों के भरोसे पैसों के लिए लिखते हैं ...मेरी जो मर्जी आये लिखता हूँ.
मैं कवि हूँ ....कवितायेँ लिखना कितना दुष्कर हैकहानी लिखने में क्या हैजो देखाआसपास लिख दोकोई तुकबहर का ख्याल नहीं रखना पड़ता.
मैं कहानीकार हूँ ....कवितायेँ तो यूँ ही लिख दी जाती हैंकोई भी पंक्ति कैसे भी जोड़ दोबस तुक मिलाने की जरुरत हैआधुनिक कविता में तो तुक की भी जरुरत नहीं .
मैं वैज्ञानिक हूँ ....ज्योतिष पाखंड हैसिर्फ बेवकूफ बनाने का जरिया है.
मैं ज्योतिषी हूँ ....वैज्ञानिकों का भाग्य तो हम ही बता सकते हैं ...
मैं बॉस हूँ ....मातहतों को अपने बॉस के साथ विनम्रता से पेश आना चाहिएऑफिस के कार्य के अलावा थोड़े बहुत घर के काम भी कर दिए तो क्या हर्ज़ है..
मैं मुलाजिम हूँ ...बॉस को कर्मचारियों से प्यार से पेश आना चाहिएहम तनख्वाह ऑफिस के काम की लेते हैंइनके घर का कम क्यों करें...
मैं पुरुष हूँ .....स्त्रियों की अकल उनके घुटने में होती है !
मैं स्त्री हूँ ......पुरुषों के घुटने कहाँ झुकते हैंकौन नहीं जानता !
मैं कामकाजी महिला हूँ ...घर बैठे सिर्फ डेली सोप देखनापास पड़ोस में सास बहू की चुगलियाँ और काम क्या होता है इन गृहिणियों को .
मैं गृहिणी हूँ ....सुबह सवेर सज-संवर कर निकल जानाघर और बच्चों को आया के भरोसे छोड़कर...काम तो बहाना है.
मैं सास हूँ ....आजकल की बहुएं नाआते ही पूरे घर पर कब्जा कर लेती हैंबहू को ससुराल का हर कार्य आदर पूर्वक करना चाहिए..
मैं माँ हूँ ...बेचारी मेरे बेटी से ससुराल वाले कितना काम करवाते हैं , बहू का हक तो उसे मिलना ही चाहिए .
मैं बहू हूँ ....ये सासू माँ , समझती क्या है अपने आप कोजब देखो हुकम चलाती है.
मैं बेटी हूँ ....माँ ने अपनी बहुओं को कितना सर चढ़ा रखा है.
मैं ननद हूँ ...भाभियाँ भाई को अपने वश में रखती हैंभाई को अपनी बहनों को तीज त्यौहार पर महंगे गिफ्ट देने चाहिए.
मैं भाभी हूँ ....ननद बिजलियाँ होती हैंआग लगाने के सिवा कुछ नहीं जानती , तीज त्योहारों पर अपने भाई से महंगे तोहफों की मांग करती रहती हैं.
मैं पिता हूँ ....आजकल बच्चे कितने अनुशासनहीन है , हम तो अपने पिता से कितना डरते थेउन्हें कभी हमें पढने के लिए कहना ही नहीं पड़ता था..
हम बच्चे हैं .....हमारे पिता को कभी उनके माता पिता ने पढने के लिए नहीं टोकामगर ये हमेशा हमारे सर पर सवार रहते हैं..

2 comments:

  1. सोहराब अली साहब ,
    वाणी जी का लिंक देने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया !

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...