Friday, March 23, 2012

भगवा एजेंडे से मध्यप्रदेश में हो रही महिलाओं की दुर्दशा


मध्यप्रदेश मे सरकारी खजाने का एक बड़ा भाग उन योजनाओ पर खर्च हो रहा है जो लड़कियो को बचाने एवं उनके सम्मान के लिये बनाई गई है या यह कह सकते हैं जो योजना मध्यप्रदेश की भाजपा सरकार ने संघी ऐजेंडे को पूरा करने के लिए बनाई है। मध्यप्रदेश मे भाजपा की दूसरी पारी और आठवे वर्ष तक इस सरकार ने ऐसी कई योजनाए बनाई है जो लड़कियो की तरक्की के लिए कही जाती रही है, परन्तु तमाम सरकारी दावो के बाद मध्यप्रदेश मे लड़कियो या महिलाओ की स्थिति अत्यंत दयनीय है और महिलाओं पर अत्याचार की पराकाष्ठा तब होती है जब पुलिस द्वारा ही थानो में बंदी महिलाओ से बलात्कार किया जाता है। राष्ट्रीय अपराध रिकार्ड ब्युरो(एनसीआरबी) के आकड़ो के अनुसार मध्यप्रदेश में लगातार तीसरे वर्ष सर्वाधिक बलात्कार की घटनाएं हुई है। वर्ष 2008 में 2937 महिलाओं के साथ बलात्कार की घटनाऐं हुई और ये ऑकड़ा 2009 में 2998 तथा 2010 में 3135 तक पहुंच गया अर्थात मध्यप्रदेश में हर दिन लगभग 8 महिलाए बलात्कार की शिकार हो रही है। इन घटनाओं के पिछे परोक्ष-अपरोक्ष रूप से मध्यप्रदेश सरकार की पुनरूत्थानवादी नीतिया ही जिम्मेदार है। भगवा विचारधारा के चलते मध्यप्रदेश में सरकार द्वारा बचे कुचे सामंती अवशेषों को संरक्षित करने का पुरजोर प्रयास किया जा रहा है इसलिये महिलाओं पर अत्याचारों में बढ़ोतरी हो रही है।

मुख्यमंत्री को अपनी भांजियो से इतना प्यार है कि उन्हाने कन्यादान जैसी योजनाओ का क्रियान्वयन करते समय देश के संविधान की धज्जिया उड़ा दी जो कहता हैंकिसी भी व्यक्ति का दान या व्रिकय नही किया जा सकता इसके अतिरिक्त मंगल दिवस, गोदभराई और लाड़ली लक्ष्मी योजना जैसी कई योजनाओं को लागू करके भाजपा सरकार ने अपने संघी आकाओ को खुश करने और सरकारी तन्त्र का भगवाकरण करने मे कोई कसर नही छोड़ी

भाजपा की सरकार और भगवा विचारधारा वाले संगठन लड़कियो को या तो पैर की जूती समझते हैं या देवी समझकर उनकी पूजा करते हैं दोनो ही स्थिति में इनकी भगवा विचारधारा महिलाओ को इंसान नही समझती और उन्हे प्रताड़ित करती हैं। पिछले दिनो भोपाल मे संघी दलालो द्वारा ऐसे ही सांमती फरमान जारी किये गये जिसमे कहा गया की लड़कियां जींस पहनकर मंदिरो मे प्रवेश करें। इससे हिन्दू संस्कृति दूषित हो रही है। कई स्थानो पर भगवा ब्रिगेड द्वारा प्रेमी युगलो की पिटाई की गई जिस पर प्रायः पुलिस भी चुप्पी साधी रही। धर्म और संस्कृति के आधार पर भगवा विचारधारा वाले संगठन समय समय पर औरतों पर अत्याचार करते आए हैं। मध्यप्रदेश के अतिरिक्त जहॉ भी भाजपा की सरकार है वहा महिलाओ पर सामंती और पितृसत्तात्मक हमलो मे तेजी आई है।

पिछले वर्षो में बैगलोर के डिस्को और पबो पर हमला कर इन लोगो ने महिलाओ को नैतिकता का पाठ पढ़ाने का प्रयास किया क्योंकि इन पढ़ी लिखी और स्वतंत्र आचरण वाली महिलाओ से पितृसत्तात्मक समाज को कड़ी चुनौति मिल सकती है इसलिए इन पर हमले लगातार बढ़ते जा रहे हैं

वहीं दूसरी ओर मध्यप्रदेश में घरेलु हिंसा के मामलों में भी स्थिति गंभीर है। वर्ष 2010 में 3756 महिलाऐं घरेलू हिंसा का शिकार हुई अर्थात प्रदेश में हर दिन 10 महिलाओं को उनके रिष्तेदारों द्वारा प्रताड़ित किया जा रहा है। मध्यप्रदेश सरकार की लाड़ली लक्ष्मी योजना और कन्यादान जैसी योजना के चलते समाज में दहेज की मांग बढ़ी है साथ ही प्रदेश में दहेज हत्या के प्रकरणों में वृद्धि हुई है। वर्ष 2003 में 648 दहेज हत्या हुई वहीं ये ऑकड़ा 2010 में बढ़कर 892 तक पहुंच गया अर्थात हर दिन तीन महिलाओं की दहेज के लिये हत्या की गई।

यह सर्वविदित है कि विकास के लिए महिलाओं को भी वही दर्जा दिया जाए जो पुरूष को इस समाज में प्राप्त है लेकिन सरकार द्वारा संचालित सभी योजनाएं हिन्दुत्व का प्रचार एवं हिन्दुओ का तुष्टिकरण मात्र है पिछले आठ वर्षो में भाजपा के शासन काल के दौरान प्रदेश में सरकारी तंत्र का भगवाकरण और फासीवादी आक्रमणों के चलते जनवादी ताकते कमजोर हुई है इस कारण प्रदेश की भाजपा सरकार ने महिलाओं को दोयम दर्जे पर लाकर खड़ा कर दिया है।

No comments:

Post a Comment

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...